Poetrytadka.com

Life Shayari


pyar tabtak life shayari

प्यार तब तक रहता है जब तक की वजूद और मौजूद की बात हो
नहीं तो जरुरी और मज़बूरी रस्ते ही बदल देते है

Kabhi Milne Aur Milane Ka Taiwaar To Aaye
Mujhe Bus Ab Ye Judai Bardasth Nahi Hoti
कभी मिलने और मिलाने का तेवर तो आये
मुझे बस अब ये जुदाई बर्दास्त नहीं होती

Phir Kisi Par Nahi Uthi Wo Aankhen
Jin Ki Aanhko Main Fanaa Hoti Hai Muhabbat
फिर किसी पर नहीं उठी वो आँखें
जिन की आन्ह्को मैं फना होती है मुहब्बत

pyar tabtak life shayari

apni auokaat bhool jata hai

समंदर बड़ा होकर भी अपनी हदों में रहता है 
इन्सान छोटा होकर भी औकात भूल जाता है 

Wo Jo Kehta Tha Taare Tod Kar Launga
Yakeen Mano Usne Mujhe Par Aasman Gira Diya
वो जो कहता था तारे तोड़ कर लाऊंगा
यकीन मानो उसने मुझे पर आसमान गिरा दिया

Isse Kehna Mujhe Is Ke Bina Nahi Rehna
Bohut Dil Main Aata Hai Magar Kuch Nahi Kehta
इससे कहना मुझे इस के बिना नहीं रहना
बहुत दिल में आता है मगर कुछ नहीं कहता

apni auokaat bhool jata hai

jeena sikha diya

अफसोस तो है तेरे बदल जाने का मगर
तेरे कुछ बातो ने मुझे जीना सिखा दिया

Kabar Ke Sannate Main 1 Awaaz Aayi
Kisne Phool Rakh Kar Asoon Ki 2 Bund Bahayi
काबर के सन्नाटे में 1 आवाज़ आयी
किसने फूल रख कर असून की 2 बून्द बहाई

Jab Tak Zinda Tab Tak Yaad Nahi Aayi
Ab So Raha Hoon To Kis Ko Meri Yaad Aayi
जब तक ज़िन्दा तब तक याद नहीं आयी
अब सो रहा हूँ तो किस को मेरी याद आई

jeena sikha diya

dil me rahna sekho

Dil Me Rahna Sekho Ghar Me To Sabhi Rahte Hai

Raha Na Dil Main Be-dard Aur Dard Raha
Mukeem Kon Huwa Hai Mukaam Kis Ka Hai
रहा न दिल मैं बे-दर्द और दर्द रहा
मुकीम को हुवा है मुक़ाम किस का है
Ek Shaam Mohabbat Ki Lagao Yaaro
Jo Roote Hai Inko Bhi Bulao Yaaro
एक शाम मोहब्बत की लगाओ यारों
जो रूट है इनको भी बुलाओ यारो

Safar Zindagi Ka Kaise Katega Aakhir
Dilon Se Nafrat Ke Parde Hatao Yaaro
सफ़र ज़िन्दगी का कैसे कटेगा आखिर
दिलों से नफ़रत के परदे हटाओ यारो

dil me rahna sekho

bhigte rhebarish me

Ziske Paas Sirf Sikke The Wo Maze Se Bhigte Rahe Barish Me
Jiske Jeeb Me Note The Wo Chat Tlashte Rah Gaae

Chahat Bhari Hai Rakabat Nahi Mili
Kahi Par Bhi Sadakat Nahi Mili
चाहत भरी है रकाबत नहीं मिली
कही पर भी सदाकत नहीं मिली

Aankh Ki 1 Hasrat Thi Jo Puri Hui
Asoon Main Bheeg Jane Ki Huwas Puri Hui
आँख की 1 हसरत थी जो पूरी हुई
असून मैं भीग जाने की हवस पूरी हुई

bhigte rhebarish me
All Next